Share
Please give your valuable feedback
Sanskrit Sansthan facebook fan page
Sanskrit Sansthan Youtube channel

         
कर्मचारी सेवा नियमावली
 
भाग-सात
 
   
  • प्रत्यावर्तन, छंटनी, त्यागपत्र और सेवा समाप्ति


  • 22. प्रत्यावर्तन


  • 1. अस्थायी अथवा स्थानापन्न रूप से पदोन्नति होने पर उच्चतर पद धारण करने वाले किसी कर्मचारी को, जब तक वह उस पद पर स्थायी न कर दिया जाए, नोटिस के बिना प्रत्यावर्तित किया जा सकेगा, यदि
    क. उसका कार्य संतोषजनक न समझा जाय या,
    ख. उच्चतर पद की रिक्त, जिस पर वह स्थानापन्न रूप से कार्य कर रहा था, किसी कारणवश समाप्त हो गई हो।
    2. प्रत्यावर्तन के आदेश, नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा दिये जायेगें।
    3. संस्कृत संस्थान द्वारा वाह्‌य सेवा पर प्रतिनियुक्ति अधिकारियों/कर्मचारियों को किसी भी समय उनके मूल विभाग को प्रत्यावर्तित किया जा सकता है।


  • 23. छटनी


  • 1. यदि कभी संस्थान का कार्य कम हो जाय या मितव्ययता के हित में किसी पद या पदों को कम किया जाना आवश्क हो जाय, तो यथासमय कार्यकारिणी समिति के अनुमोदन से छटनी की कार्यवाही की जा सकेगी।
    2. छटनी करने में किसी पदक्रम में कनिष्ठतम कर्मचारी से छटनी करने की नीति अपनायी जायेगी।


  • 24. त्यागपत्र


  • 1. संस्थान का कोई अस्थायी कर्मचारी 30 दिन की नोटिस देकर या नोटिस के बदले 30 दिन के महंगाई भत्ता सहित वेतन के बराबर धनराशि देकर संस्थान की सेवा से त्यागपत्र दे सकता है। स्थायी कर्मचारी की सेवा से त्यागपत्र देने हेतु तीन मास की नोटिस या उसके स्थान में महंगाई भत्ता साहित तीन मास के वेतन के बराबर धनराशि संस्थान को देनी होगी।
    2. त्यागपत्र स्वीकृत होने के दिनांक से प्रभावी होगा, किन्तु कर्मचारी संस्थान के अभिलेख, पुस्तकों तथा सम्पत्ति का, जो उसकी अभिरक्षा में हो, प्रभार सौंपने के लिये त्यागपत्र की स्वीकृति के आदेश में विर्निदष्ट अवधि का वेतन पाने का हकदार होगा।
    3. यदि यह पाया जाय कि संस्थान का कोई अभिलेख, पुस्तक या सम्पत्ति किसी कर्मचारी द्वारा रोक ली गई है, तो उसका त्यागपत्र स्वीकार किये जाने पर भी वह उसके लिये उत्तरदायी बना रहेगा।


  • 25. सेवा समप्ति


  • किसी कर्मचारी की सेवायें समाप्त करने की प्रक्रिया निम्नलिखित होगी :-


  • 1. किसी अस्थायी कर्मचारी की सेवायें 30 दिन की लिखित नोटिस देकर समाप्त की जा सकती है, किन्तु नियुक्ति प्राधिकारी को नोटिस के बदले में महंगाई भत्ता सहित 30 दिन का वेतन भुगतान करके सेवा समाप्त करने का भी अधिकार होगा। प्रतिबन्ध यह है कि किसी विशिष्ट अवधि के लिये की गई नियुक्ति की दशा में भी कोई भी नोटिस देने या उसके बदले में किसी वेतन के भुगतान करने की आवश्कता न होगी। 
    2. किसी स्थायी कर्मचारी की सेवायें तीन मास की लिखित नोटिस देकर समाप्त की जा सकती है, किन्तु नियुक्ति प्राधिकारी नोटिस अवधि का वेतन देकर तत्काल भी सेवा समाप्त कर सकता है।